एटा लोकसभा सीट के अब तक परिणामों पर नजर, इस बार कौन सी पार्टी यहाँ लहरा पायेगी अपना परचम

उत्तर प्रदेश के एटा की जमीन महान सूफी संत अमीर खुसरो के लिए याद की जाती है, राजनीतिक दृष्टि से यह सीट बहुत ही महत्वपूर्ण है | पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के बेटे राजवीर सिंह इस सीट से चुनाव लड़ रहे है, जिससे यह सीट लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है | कल्याण सिंह की प्रतिष्ठा इस सीट से जुड़ी हुई है | राजवीर सिंह को टक्कर देने के लिए सपा-बसपा की जोड़ी मैदान में है |

ये भी पढ़ें: लखनऊ लोकसभा चुनाव में किसकी है कांटे की टक्कर, क्या कहती है यहाँ की जनता

एटा लोकसभा सीट पर 14 उम्मीदवार अपनी ताल ठोक रहे है | इस चुनाव में मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राजवीर सिंह उर्फ राजू भईया और समाजवादी पार्टी के देवेंद्र सिंह यादव के बीच में है |

कांग्रेस ने यूपी में 3 क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन किया हुआ है | इस सीट पर कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा है |

एटा की जनसंख्या 131,023 है जिसमें से 69,446 पुरुष और 61,577 महिलाएं हैं |

यहाँ पर यादव और राजपूतों की संख्या अधिक है एटा में 78 प्रतिशत आबादी हिंदू और 17 प्रतिशत आबादी मुस्लिम है |

एटा लोकसभा सीट के अब तक परिणाम

एटा लोकसभा सीट पर पहले सांसद कांग्रेस के नेता रोहनलाल चतुर्वेदी थे। इसके बाद यहां से लगातार दो बार हिन्दू महासभा के बिशंचंदर सेठ ने जीत दर्ज की |

1967 और 1971 में कांग्रेस ने जीत दर्ज की |

1977 में इस सीट पर भारतीय लोकदल ने कब्ज़ा कर लिया |

1980 में कांग्रेस ने इस सीट पर फिर से जीत दर्ज की |

1984 में यह सीट फिर भारतीय लोकदल के पास चली गयी |

1989 में भाजपा ने यहाँ पर एंट्री की इस सीट पर शाक्य के सहारे चार बार भाजपा को जीत मिली |

1999 में यह सीट सपा के पास चली गई |

2004 में भी यह सीट सपा के पास रही |

2009 के लोकसभा चुनाव में जन क्रांति पार्टी के नेता कल्याण सिंह ने जीत दर्ज की |

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी राजवीर सिंह यहां के सांसद चुने गए |

नोट: एटा लोकसभा सीट पर चुनाव 23 अप्रैल को होंगे |

ये भी पढ़े: कानपुर लोकसभा क्षेत्र: कितने है मतदाता, किस पार्टी का इस सीट पर रहा है ज्यादा कब्जा