कन्नौज लोकसभा सीट पर क्यों है सबकी नजर, क्या है इस बार यहाँ का चुनावी माहौल

कन्नौज लोकसभा सीट समाजवादी का गढ़ मानी जाती है, यहाँ से समाजवादी पार्टी लगातार जीत दर्ज करती आयी है| वर्ष 2014 की  ‘मोदी लहर’ में भी डिंपल यादव ने यहां से जीत दर्ज की थी| पिछले चुनाव में डिंपल को  489164 (43.89 फीसदी) वोट मिले थे| जबकि बीजेपी प्रत्याशी को 469257 (42.11 फीसदी) वोट मिले थे| बीएसपी को 127785 (11.47 फीसदी) वोट और यह चौथे नंबर पर थी |

नोट:- कन्नौज लोकसभा सीट में मतदान चौथे चरण के अंतर्गत 29 अप्रैल को होगा|

ये भी पढ़ें: कन्नौज लोकसभा सीट का इतिहास क्या रहा है अब तक, कितने है इस क्षेत्र में वोटर्स

इस बार सपा और बसपा ने गठबंधन किया हुआ है, इसलिए बीएसपी यहां पर अपना प्रत्याशी नहीं उतारेगी| जिसका सीधा मतलब है कि बीएसपी को मिलने वाले वोट सपा के ही खाते में जायेंगे| इस प्रकार से चुनावी माहौल यह बन रहा है कि कन्नौज लोकसभा सीट से डिंपल यादव को हरा पाना बहुत ही कठिन है |

साल 1998 से समाजवादी पार्टी लगातार 7 बार  लोकसभा का चुनाव जीत चुकी है, इस सीट पर मुलायम सिंह के परिवार का सदस्य हमेशा से चुनाव जीतता आया है, यदि इस सीट पर किसी अन्य पार्टी द्वारा जीत दर्ज की जाती है तो इसका सीधा मतलब समाजवादी पार्टी पतन की ओर है| इस सीट से अखिलेश यादव तीन बार और उनके पिता मुलायम सिंह यादव एक बार सांसद चुने जा चुके हैं| इस सीट पर समाजवादी पार्टी की प्रतिष्ठा दावं पर लगी हुई है |

ये भी पढ़ें:कानपुर लोकसभा क्षेत्र: कितने है मतदाता, किस पार्टी का इस सीट पर रहा है ज्यादा कब्जा