मेरठ लोकसभा सीट का अब तक का क्या रहा है चुनावी इतिहास

अब तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश की राजनीति का केंद्र मेरठ रहा है, यहाँ की चुनावी हलचल उत्तर प्रदेश की राजधानी तक की सुनाई देती है| देश के पहले लोकसभा चुनाव के समय मेरठ लोकसभा तीन क्षेत्रों में विभाजित थी| मेरठ जिला (पश्चिम), मेरठ जिला (दक्षिण), मेरठ जिला (उत्तर पूर्व)। मेरठ पश्चिम सीट से पहली बार कांग्रेस की ओर से खुशी राम शर्मा सांसद बनी थी|

ये भी पढ़ें: मेरठ लोकसभा सीट में कितने है वोटर, क्या है चुनावी समीकरण

1957 में तीनों लोकसभा सीटों को एक में ही मिला दिया गया जिससे मेरठ लोकसभा सीट का गठन हुआ कांग्रेस ने इस चुनाव में शाहनवाज खान को चुनाव मैदान में उतारा था, शाहनवाज ने इस पर जीत दर्ज की थी|

मेरठ लोकसभा सीट पर वर्ष 1989 में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा इसके बाद साल 1991 में रामलहर के प्रभाव के चलते इस सीट पर भाजपा ने पहली बार कब्जा किया| इस सीट पर एक बार बहुजन समाज पार्टी ने भी जीत दर्ज की इसके बाद से लगातार दो बार से भाजपा के खातें में यह सीट जा रही है|

वर्ष विजेता पार्टी का नाम
1952 शाहनवाज खान कांग्रेस
1957 शाहनवाज खान कांग्रेस
1962 शाहनवाज खान कांग्रेस
1967 महाराज सिंह भारती  संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी
1971 शाहनवाज खान कांग्रेस
1977 कैलाश प्रकाश  जनता पार्टी
1980 मोहसिना किदवई  कांग्रेस
1984 मोहसिना किदवई  कांग्रेस
1989 हरीश पाल  जनता दल
1991  अमरपाल सिंह  भाजपा
1996 अमरपाल सिंह  भाजपा
1998 अमरपाल सिंह  भाजपा
1999 अवतार सिंह भड़ाना  कांग्रेस
2004 हाजी शाहिद अखलाक बसपा
2009 राजेंद्र अग्रवाल  भाजपा
2014 राजेंद्र अग्रवाल  भाजपा

ये भी पढ़ें: गाजियाबाद लोकसभा चुनाव का क्या है समीकरण