मायावती ने एक बार फिर चुनाव आयोग पर साधा निशाना, पूछा- क्या आयोग वाकई स्वतंत्रता व निष्पक्षता से काम कर रहा है

लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान पहले ही पूरा हो चुका हैं, और अब गुरुवार 18 अप्रैल को दूसरे चरण का मतदान देशभर के 11 राज्यों व एक केंद्र शासित प्रदेश पुदुच्चेरी में जारी है| वहीं अब बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से कई ट्वीट करते हुए एक बार फिर चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए सवाल पूछे हैं|

ये भी पढ़े: लोकसभा इलेक्शन 2019: मायावती ने पूर्वांचल में ‘सोशल इंजिनियरिंग’ पे चला दांव

मायावती ने ट्वीट करते हुए लिखा, ”सुप्रीम कोर्ट की यह संतुष्टि काफी महत्वपूर्ण है, कि चुनाव आयोग उतना लाचार व कमजोर नहीं है जितना वह अपने आपको साबित कर रहा था, लेकिन इस तथ्य व आमधारणा की सही जाँच व परख होनी बाकी है, कि आयोग वाकई स्वतंत्रता व निष्पक्षता से काम कर रहा है एवं केन्द्र के आगे नतमस्तक नहीं है?”

इसी के साथ मायावती ने पीएम मोदी को निशाने पर लेते हुए कहा, ”चुनाव में हर प्रकार के अनर्गल आरोपों के अलावा बीजेपी के नेतागण व पीएम मोदी की जुबान लगातार बेलगाम रही है, जैसे कि विपक्ष पर यह आरोप है कि वे उन्हें गाली देते रहते हैं बहुत ही अशोभनीय व अमर्यादित है | महिला सम्मान से जुड़े मामलों में भी बीजेपी की भूमिका अच्छी नहीं रही है”|

इसके बाद एक और ट्वीट करते हुए कहा, ”विपक्ष को अनेकों प्रकार के उत्तेजनाओं के बावजूद एक-दूसरे पर टिप्पणी करने के मामले में शालीनता की सीमा नहीं लांघनी चाहिए | इससे बीजेपी को अपनी कमजोरी छिपाने व लोगों को बरगलाने का मौका मिल जाता है | वैसे भी सत्ताधारी पार्टी पर आयोग की पकड़ सख्त होगी तभी जनविश्वास पैदा होगा”|

इसी के साथ एक और ट्वीट करते हुए लिखा, ”आज दूसरे चरण का मतदान है और बीजेपी व पीएम मोदी उसी प्रकार से नर्वस व घबराए लगते हैं जैसे पिछले लोकसभा चुनाव में हार के डर से कांग्रेस व्यथित व व्याकुल थी | इसकी असली वजह सर्वसमाज के गरीबों, मजदूरों, किसानों के साथ-साथ इनकी दलित, पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी संकीर्ण सोच व कर्म है”|

ये भी पढ़े:चु नाव आयोग ने दिखाए कड़े तेवर: लगाई योगी और मायावती पर कमशः 72 घंटे और 48 घंटे के लिए प्रचार पर रोक