अलग हुए प्रिंस हैरी अपने शाही परिवार से : जानिए किस पद पर कंपनी में करेंगे नौकरी

0
231

अनेक प्रकार की सुख और सुविधा को त्याग कर ब्रिटेन के शाही परिवार से अलग हुए प्रिंस हैरी अब नौकरी करेंगे । प्रिंस हैरी ने शाही परिवार के ऐसो आराम को छोड़कर आम नागरिक के जैसे अपने जीवन गुजारने की सोच के साथ प्रिंस हैरी ने अब मानसिक स्वास्थ्य की कोचिंग देने वाली कंपनी में चीफ इम्पैक्ट ऑफिसर (सीआईओ) के पद पर ज्वाइन किये है। ये कोचिंग जिस कंपनी का है उसका नाम बेटरअप है, जो कि अभी एक स्टार्टअप है। शाही परिवार के प्रिंस हैरी अब इस कोचिंग में नौकरी करते हुए नजर आएंगे।

Advertisement

कोरोना नियमों पर मुंबई पुलिस हुई सख्त

बेटरअप कंपनी की शुरुआत साल 2013 में एक हेल्थ टेक कंपनी के तौर पर हुई थी। यह कंपनी पेशेवर और मानसिक स्वास्थ्य की कोचिंग की व्यवस्था करती है। बेटरअप कंपनी का नेटवर्थ 12556 करोड़ रुपये हैं। इस कंपनी में 200 से अधिक कर्मचारी है और लगभग दो हजार से अधिक कोच हैं, जो मानसिक सेहत से सम्बंधित लोगों को ट्रेनिक देते हैं। आप को बता दें कि ब्रिटिश शाही परिवार ने प्रिंस हैरी और प्रिंसेज मेगन मर्केल की शाही उपाधियों को वापस ले लिया है। जिसके बाद से अब प्रिंस हैरी और मर्केल शाही परिवार के कार्यकारी सदस्य नहीं हैं, बल्कि एक आम नागरिक हैं।

N V Ramana होंगे देश के अगले मुख्य न्यायाधीश

पिता ने फोन उठाना बंद कर दिया था

ब्रिटेन के प्रिंस हैरी ने हाल ही में बताया है, कि उनके पिता प्रिंस चार्ल्स, जो कि ब्रिटिश सिंहासन के उत्तराधिकारी थे, उन्होंने उनका फोन उठाना बंद कर दिया था। प्रिंस हैरी ने अपनी दादी महारानी एलिजाबेथ को लेकर बताया है, कि उनके मन में उनके लिए बहुत अधिक सम्मान है। हैरी ने ऐसा बताया है, कि जब उन्होंने मेरी फोन उठाना बंद कर दिया उससे पहले “मैं अपनी दादी से तीन बार, और मेरे पिता से दो बार बातचीत हुई थी और फिर उन्होंने कहा, क्या आप यह सब लिखित तौर से दे सकते हैं?”

UPPSC PCS 2020: इंटरव्यू के लिए जारी हुआ एडमिट कार्ड

पत्नी और बेटे आर्ची के लिए भी कुछ करना है

यह बात पूछने पर कि चार्ल्स ने आप का फोन उठाना क्यों बंद कर दिया है, तो प्रिंस हैरी ने कहा: “एक समय मैंने मामलों को अपने हाथों में ले लिया। मुझे अपने परिवार के लिए ऐसा करने की आवश्यकता थी। यह किसी के लिए आश्चर्य की बात नहीं है। यह वास्तव में बहुत दुख की बात है। लेकिन मुझे अपने मानसिक स्वास्थ्य, अपनी पत्नी और बेटे आर्ची के लिए भी कुछ करना है।

यूपी पंचायत चुनाव: शुक्रवार को हाेगी सुप्रीम कोर्ट में आरक्षण पर सुनवाई

Advertisement