एस जगनमोहन रेड्डी (Y. S. Jaganmohan Reddy) कौन है जानिये पूरा इतिहास

0
837

आंध्र प्रदेश के बड़े नेताओं में वाई एस जगनमोहन रेड्डी को गिना जाता है| यह आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाई एस राजशेखर रेड्डी के बेटे है| इस पहचान के साथ ही वह एक सफल बिजनेसमैन और विपक्ष के नेता के रूप में जाने जाते है| वाई एस जगनमोहन रेड्डी का जन्म 21 दिसंबर 1972 को आंध्र प्रदेश के कडप्पा जिले में हुआ था| इन्होंने हैदराबाद पब्लिक स्कूल से अपनी प्राथमिक पढ़ाई पूरी की, इसके बाद उन्होंने निजाम कॉलेज से स्नातक की परीक्षा उत्तीर्ण की| यह बी.कॉम और एमबीए किये हुए है| वर्ष 1996 में इनका विवाह हो गया इनके दो बेटी है|

Advertisement

ये भी पढ़ें: योगी द्वारा इन 9 राज्यों में 30 सीटों पर किये प्रचार के बाद BJP कितनी सीटें जीत पाई – पढ़े पूरी खबर

करियर

इन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक बिजनेस मैन के रूप में शुरू की 1999-2000 में कर्नाटक के पास संदूर में उन्होंने एक पॉवर कंपनी की स्थापना की| इस कंपनी को इन्होंने पूर्वोत्तर के राज्यों तक पहुंचाया| 2004 में पिता वाईएस राजशेखर रेड्डी आंध्र प्रदेश के सीएम बने जिसके बाद इनका बिजनेस खनन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, सीमेंट निर्माण और तेलुगू अखबार साक्षी और चैनल साक्षी टीवी के फाउंडर तक पहुँच गया| 2004 में इन्होंने कडप्पा से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की, लेकिन कांग्रेस ने टिकट देने से मना कर दिया| 2009 के चुनाव में वह कडप्पा के सांसद चुने गए|

ये भी पढ़ें: इन चार राज्यों में (BJP) बीजेपी को मिली बहुत बड़ी जीत साथ ही जीत का सबसे कम अंतर भी लाखों में

पिता की मौत

2009 में जगनमोहन रेड्डी के पिता वाईएस राजशेखर रेड्डी का एक हेलिकॉप्टर क्रैश में निधन हो गया| इसके बाद जगनमोहन रेड्डी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री बनना चाहते थे, लेकिन कांग्रेस इसके लिए राजी नहीं हुई| कांग्रेस ने राजशेखर सरकार में वित्तमंत्री रहे के रोसैया को मुख्यमंत्री नियुक्त कर दिया| इससे जगनमोहन रेड्डी और कांग्रेस के बीच अच्छे रिश्ते न रहे |

ये भी पढ़ें: Loksabha Election Results 2019: अमेरिका से कुछ इस अंदाज में मिली बधाई, साथ कही ये बड़ी बात

कांग्रेस का विरोध और नई पार्टी का गठन

2010 में जगनमोहन रेड्डी अपने पिता की मौत की खबर से आत्महत्या और बीमार पड़े लोगों के परिवारों से मिलने के लिए ओडारपु यात्रा के लिए निकल गए थे| कांग्रेस ने इस यात्रा का विरोध किया लेकिन वह नहीं माने इससे कांग्रेस और जगनमोहन रेड्डी के रिश्ते और भी ख़राब हो गए | जगनमोहन रेड्डी को कई विधायकों का समर्थन प्राप्त था| 2011 में जगनमोहन रेड्डी ने Yuvajana Sramika Rythu Congress(YSR Congress) के नाम से नई पार्टी का गठन किया|

ये भी पढ़ें: Loksabha Election Results : लोकसभा में बीजेपी की प्रचंड जीत को स्मृति ईरानी ने बताया ‘सुनामी’

चुनाव में प्रचंड बहुमत

इस वर्ष लोकसभा चुनाव 2019 के साथ ही आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी हुए| जिसमें वाई. एस. आर. कांग्रेस ने प्रचंड बहुमत प्राप्त किया| वाई एस आर ने लोकसभा की 25 में से 22 सीटों पर भारी मतों के साथ जीत दर्ज की| वहीं विधानसभा चुनाव में भी तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) को करारी शिकस्त देते हुए 175 में से 151 सीटों पर वाईएसआर ने शानदार जीत दर्ज की| जगनमोहन रेड्डी ने चंद्रबाबू नायडू को सत्ता से बेदखल कर दिया| अब आंध्र प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के रूप में जगनमोहन रेड्डी शपथ ग्रहण करेंगे|

ये भी पढ़ें: बलिया लोकसभा रिजल्ट 2019: बलिया सीट से कौन जीता, वीरेंदर सिंह या सनातन पाण्डेय

Advertisement