✅ लोकसभा चुनाव 2019 : आम चुनाव की मुख्य तिथियां |ताज़ा खबर |जनता की राय|पार्टियाँ

1. लोक-सभा चुनाव -2019 (Lok Sabha Election) 🔴

चुनावी माहौल अपनी चरम पर है, निर्वाचन आयोग के द्वारा जल्द ही लोकसभा चुनाव की घोषणा हो सकती है| यह चुनाव सत्रहवी लोकसभा के गठन के लिए आयोजित किया जायेगा| सभी राजनीतिक दल अधिक से अधिक सीटें जीतना चाहते है, जिसके लिए वह नयी- नयी रणनीति बना रहे है| विपक्षी दलों के द्वारा एक-दूसरे से गठबंधन किया जा रहा है| कई दलों में सीटों के लिए आपसी सहमति बनाने का प्रयास निरंतर जारी है|

केन्द्रीय चुनाव आयोग देश में लोकसभा चुनाव की तिथियों को घोषणा नौ मार्च के बाद किसी भी दिन कर सकता है। चुनाव कार्यक्रम घोषित होते ही पूरे देश में आदर्श चुनाव आचार संहिता लग जाएगी। प्रत्येक चरण में 10 दिन नामांकन के लिए और 15 दिन चुनाव प्रचार के लिए निर्धारित होते हैं। सत्रहवीं लोक सभा चुनाव से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी हमारे पोर्टल के माध्यम से आसानी से प्राप्त कर सकते है|

क्रम स० लोकसभा चुनाव से सम्बंधित ताजा खबरे
1. लोक सभा चुनाव कैसे होता है ?
2. सपा-बसपा गठबंधन में तय हुईं सीटें
3. लोकसभा चुनाव 2019 में कौन जीतेगा
4.  सभी दलों की है इस वोट बैंक पर नजर
5. उत्तराखंड और मध्य प्रदेश में भी एसपी-बीएसपी का गठबंधन
6.  प्रधानमंत्री मोदी फ़रवरी माह में चार बार उत्तर प्रदेश का दौरा करेंगे
7. प्रियंका-सिंधिया जिताने वाले प्रत्याशियों का करेंगे चयन
8. इलेक्शन डेट 2019 में कब, किस महीने में होगा

2. लोकसभा चुनाव परिणाम – (1952 से 2014)🔴

भारत ने संसदीय प्रक्रिया को अपनाया है, इस प्रक्रिया के अंतर्गत लोकसभा का गठन किया जाता है | अभी तक हमारे देश में सोलह बार लोकसभा का गठन किया जा चुका है| पहली लोकसभा का गठन वर्ष 1952 में किया गया था, इसके बाद क्रमशः1957,1962 ,1967, 1971, 1977, 1980, 1984, 1989, 1991,1996, 1998, 1999, 2004, 2009, 2014 में लोकसभा का गठन किया जा चुका है| निर्वाचन आयोग द्वारा अब सत्रहवीं लोक सभा के गठन की घोषणा जल्दी ही होने वाली है|

क्रम स० लोक सभा चुनाव परिणाम
1. पहली लोकसभा चुनाव 1952
2. दूसरी लोकसभा चुनाव 1957
3. तीसरी लोकसभा चुनाव 1962
4. चौथी लोकसभा चुनाव 1967
5. पांचवी लोकसभा चुनाव 1971
6. छठी लोकसभा चुनाव 1977
7. सातवीं लोकसभा चुनाव 1980
8. आठवीं लोकसभा चुनाव 1984
9. नौवीं लोकसभा चुनाव 1989
10. दसवीं लोकसभा चुनाव 1991
11. ग्यारहवीं लोकसभा चुनाव 1996
12. बारहवीं लोकसभा चुनाव 1998
13. तेरहवीं लोकसभा चुनाव 1999
14. चौदहवीं लोकसभा चुनाव 2004
15. पंद्रहवीं लोकसभा चुनाव 2009
16. सोलहवीं लोकसभा चुनाव 2014
17. सत्रहवीं लोक सभा चुनाव –अति शीघ्र  

3.एग्जिट पोल /रिजल्ट (Exit Poll / Result)🔴

चुनाव के बाद चुनाव परिणाम की घोषणा निर्वाचन आयोग के द्वारा की जाती है| सभी चरणों में चुनाव होने के बाद निर्वाचन आयोग सुबह लगभग 8 बजे से मतों की गणना शुरू करवाता है| यह गणना निर्धारित स्थानों पर बहुत ही सुरक्षा- व्यवस्था के बीच शुरू की जाती है, और मतगणना की वीडियों रिकार्डिंग भी कराई जाती है| जिससे किसी भी अपवाद से बचा जा सके है |

न्यूज चैनलों पर मतगणना शुरू होते ही रुझान आने लगते है, जिससे चुनाव परिणाम के विषय में जानकारी मिलनी शुरू हो जाती है | दोपहर या शाम तक पूरी तरह से तस्वीर साफ़ हो जाती है कि कौन से दल ने सबसे अधिक सीटें जीती है | यदि किसी दल ने स्पष्ट बहुमत प्राप्त कर लिया तो वही पर सरकार के गठन पर सबका संशय समाप्त हो जाता है, यदि किसी दल को बहुमत प्राप्त नहीं होता है, तो वहां पर जोड़- तोड़ की राजनीति शुरू हो जाती है, इस प्रकार जिस दल का प्रभाव अधिक होता है,  वह सरकार बनाने में सफल हो जाता है |

4.राजनैतिक पार्टियाँ (Political Parties)🔴

लोगों का ऐसा समूह जो चुनाव लड़ने और सरकार बनाने के उद्देश्य से बनता है, उसे राजनीतिक दल कहते है। एक राजनीतिक पार्टी लोगों को इस बात का विश्वास दिलाती है, उसकी नीतियाँ अन्य पार्टियों से बेहतर हैं। भारत में विविध पार्टियों वाली राजनीतिक प्रणाली है। 13 अप्रैल, 2018 तक भारत में राजनीतिक दलों को तीन समूहों अर्थात राष्ट्रीय दल ( संख्या 7), क्षेत्रीय दल (संख्या 24) और गैर मान्यता प्राप्त दलों (संख्या 2044) के रूप में बाँटा गया है | सभी राजनीतिक दल जो स्थानीय स्तर, राज्य स्तर या राष्ट्रीय स्तर पर चुनाव लड़ने के इच्छुक होते हैं, उनका भारतीय निर्वाचन आयोग (EIC) में पंजीकृत होना आवश्यक है |

क्रम स० राजनैतिक पार्टियों की जानकारी  
1. राष्ट्रीय पार्टियों के नाम और चुनाव चिन्ह
2. भारतीय जनता पार्टी की स्थापना
3. जनता दल यूनाइटेड
4. आम आदमी पार्टी स्थापना
5. अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस
6. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना
7. राजनीतिक दलों को मान्यता
8. लोकसभा चुनाव 2019 में कौन जीतेगा
9. उत्तर प्रदेश में अकेले लड़ सकती है कांग्रेस
10. इन सीटो पर लगाएगी दांव -AAP
11. सपा-बसपा गठबंधन में तय हुईं सीटें
12. प्रियंका-सिंधिया करेंगे प्रत्याशियों का चयन

5. मुख्य तिथियाँ (Main Dates)🔴

सत्रहवीं लोक सभा का चुनाव जल्द ही होने वाला सभी दल इसकी तैयारी में लग चुके है| कई दलों ने अपने प्रत्याशियों के नाम भी घोषित कर दिए है और कई ने गठबंधन बना लिया है| निर्वाचन आयोग यह चुनाव अप्रैल माह में आयोजित कर सकता है, क्योंकि सोलहवीं लोकसभा के लिए शपथ ग्रहण कार्यक्रम 26 मई 2014 को आयोजित किया गया था| इस प्रकार से इसका कार्यकाल मई 2019  में समाप्त हो रहा है| कई बुद्धिजीवियों के विश्लेषण के अनुसार इस बार चुनाव अप्रैल माह में आयोजित किये जा सकते है |

क्रम स० चुनाव की तारीखों की जानकारी
1. भारत में आगामी चुनाव
2. इलेक्शन डेट 2019
3.  6 मार्च को अंतिम कैबिनेट बैठक
4. 15 से 20 दिनों में चुनाव तिथियां घोषित
5. लोकसभा चुनाव होंगे समय पर :मुख्य चुनाव आयुक्त

6.ताजा खबरे (Latest News)🔴

लोकसभा चुनाव में सभी दल अधिक से अधिक सीटें जीतना चाहते है, इसके लिए अपनी- अपनी विचार धारा के अनुसार रणनीति बना रहे है, और जनता के बीच प्रचार-प्रसार करने का प्रयास कर रहे है| उत्तर प्रदेश में दो विपरीत विचारधारा के दल आपस में गठबंधन कर चुके है | अभी प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली में आप पार्टी और कांग्रेस ने भी गठबंधन कर लिया है| सत्ताधारी पार्टी को पराजित करनें के लिए कई दलों ने महागठबंधन कर लिया है|अब यह गठबंधन कितने दिनों तक कायम रहेगा, यह भविष्य के गर्त में छुपा हुआ है |

क्रम स० चुनाव की लेटेस्ट न्यूज़
1. PM मोदी करेंगे 100 से अधिक सभाए
2. ओवैसी के यूपी से चुनाव लड़ने के आसार
3. उत्तर प्रदेश में अकेले लड़ सकती है कांग्रेस
4.  सोशल मीडिया प्रचार पर 48 घंटे पहले बैन
5.  इन सीटो पर लगाएगी दांव- AAP
6. सभी दलों की है इस वोट बैंक पर नजर
7. सपा-बसपा गठबंधन में निर्धारित सीटें
8. प्रियंका-सिंधिया करेंगे प्रत्याशियों का चयन
9. छत्तीसगढ़ की तर्ज पर कांग्रेस यूपी में करेगी बूथ मजबूत
10. महागठबंधन से सहयोगियों में आपसी मनमुटाव
11. उत्तराखंड और एम पी में सपा-बसपा का गठबंधन

7.ओपनियन पोल /जनता की राय (Opinion Poll / Public Opinion)🔴

लोकतंत्र में चुनाव के माध्यम से शासन जनता के हाथों में सौपा गया है| प्रत्येक राजनीतिक दल जनता को लुभाने के लिए बड़े- बड़े दावे करती है, लेकिन चुनाव के बाद वह अपने वादों पर कितना कायम रहती है, यह तो भविष्य ही बताएगा| जनता पुराने अनुभवों से काफी-कुछ सीख चुकी है, अब  शहर और  गाव का अधिकांश मतदाता शिक्षित और जागरूक है, अब उसे धर्म या जाति के नाम पर विभाजित नहीं किया जा सकता|कई जगह की सर्वें रिपोर्ट के आधार पर अब कहा जा सकता है, जनता अपना मत उसी प्रत्यशी को देगी जिसने जनता के हित में कार्य किया हो|अब इसमें कौन सा दल सबसे बड़ा दल बनकर उभरता है, यह जनता जनार्दन ही तय कर सकती है, इसकी जानकारी हमें चुनाव परिणाम से ही ज्ञात हो सकता है |

क्रम स० लोक सभा चुनाव में जीत   
1. लोकसभा चुनाव 2019 में कौन जीतेगा

8. राज्य (States)🔴

भारत राज्यों का एक संघ है | इसे 29 राज्य और 7 केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित किया गया है | प्रत्येक राज्य में व्यस्क जनता के मतदान द्वारा सरकार चुनी जाती है, लेकिन केंद्रशासित प्रदेशों में केंद्र सरकार द्वारा चुने गए उप राज्य पाल के द्वारा शासन किया जाता है राजधानी दिल्ली और पुदुचेरी  में चुनाव का आयोजन किया जाता है और राज्य सरकार का गठन भी किया जाता है, लेकिन इनके अधिकार अन्य राज्यों की अपेक्षा कम होते है | इन राज्यों में कुछ कानून भारत के राष्ट्रपति के “विचार और स्वीकृति” मिलने के बाद ही लागू हो सकते हैं | इन दोनों राज्यों में किसी भी प्रस्ताव को पास करने के लिए उपराज्यपाल की स्वीकृति आवश्यक होती है | उपराज्य पाल को किसी भी प्रस्ताव पर स्वीकृति के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता|

क्रम स० लोक सभा चुनाव में पार्टियों की रणनीति   
1. उत्तर प्रदेश में अकेले लड़ सकती है कांग्रेस
2. प्रियंका-सिंधिया जिताने वाले प्रत्याशियों का करेंगे चयन
3. कांग्रेस यूपी में करेगी बूथ मजबूत
4. उत्तर प्रदेश में गठबंधन की मजबूत गांठ
5. मध्य प्रदेश में सपा-बसपा का गठबंधन
6. आप का फोकस उत्तर भारत की 33 लोकसभा सीटों पर 

9. चुनाव से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी (Important Information About Election)🔴

लोकसभा चुनाव-2019 में देश की सभी राजनीतिक पार्टियां मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करनें में लगी है | सभी पार्टियों ने अपनी रणनीति के अनुसार अपने पैतरे फेंक रही है | सभी राजनैतिक पार्टियों द्वारा एक नई रणनीति के तहत मतदाताओं को लुभाया जा रहा है, परन्तु पार्टियों के इस क्रिया-कलाप से मतदाता अच्छी तरह से वाकिफ है | यदि हम चुनाव की बात करे, तो मतदान करनें से लेकर पार्टियों की जानकारी, देश के प्रधानमंत्री,राष्ट्रपति और संसद से सम्बंधित अनेक ऐसे प्रश्न उत्पन्न होते है, जिनके बारें में हमे सटीक जानकारी नही होती है | हम आपको इस पेज पर चुनाव से सम्बंधित अहम् जानकारी दे रहे है, जिसे पढ़नें के बाद आपके लगभग सभी प्रश्नों के उत्तर आपको प्राप्त हो जायेंगे | तो आईये जानते है, चुनाव से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी-           

क्रम संख्या 👉 महत्वपूर्ण जानकारी 👈
1. मतदान से जुड़े विभिन्न सवालों के जवाब
2. मतदान क्या होता है
3. चुनावी घोषणा पत्र क्या होता है – जानिए
4. चुनाव कौन लड़ सकता है
5. आम चुनाव और मध्यावधि चुनाव किसे कहते है
6. नोटा का मतलब क्या है
7. राजनीतिक दलों को मान्यता कौन देता है
8. आदर्श चुनाव आचार संहिता क्या है
9. वीवीपीएटी मशीन क्या होती है
10. केंद्र सरकार और राज्य सरकार कैसे बनती है ?
11. नामांकन फार्म किसे कहते है ?
12. राष्ट्रीय पार्टियों के नाम और चुनाव चिन्ह
13. 48 घंटे पहले सोशल मीडिया प्रचार पर बैन

10.संसदीय व्यवस्था (Parliamentary System)🔴

भारतीय संविधान के अंतर्गत केंद्र और राज्य दोनों स्तरों पर संसदीय प्रणाली पर आधारित शासन की व्यवस्था की गई है| संविधान के अनुच्छेद 74 और 75 के अंतर्गत केंद्र में अनुच्छेद 163 और 164 के तहत राज्यों में संसदीय प्रणाली की व्यवस्था की गई है| भारत में राष्ट्रपति नाम मात्र के शासक है, जबकि प्रधानमंत्री वास्तविक शासक है। इसलिए, सभी वास्तविक कार्यकारिणी शक्तियां प्रधानमंत्री के पास होती हैं। मंत्रिमंडल में कार्यकारिणी शक्तियां होने की वजह से संसदीय सरकार को कैबिनेट सरकार भी कहते हैं। सरकार की संसदीय प्रणाली में कार्यपालिका अपनी नीतियों और कृत्यों के लिए विधायिका के प्रति जिम्मेदार होता है|

क्रम संख्या 👉 महत्वपूर्ण जानकारी 👈
1. भारत के सभी राज्यों के राज्यपालों की सूची
2. भारत के प्रधानमंत्रियों की सूची
3. भारत के राष्ट्रपति की योग्यता और अधिकार
4. भारतीय राज्यों के वर्तमान मुख्यमंत्रियों की सूची
5. भारत के सभी राज्यों के राज्यपालों की सूची
6.  लोक सभा चुनाव कैसे होता है ?